Search Suggest

5G आने से क्या होंगे नए बदलाव, क्या हैं इसके खतरे?

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि बहुत जल्द आपको ऐसी Internet स्पीड मिलने वाली है जिससे 3 घंटे की HD मूवी आप सिर्फ 1 सेकंड में Download कर पाएंगे? 

तो आइए आज जानते हैं Technology की दुनिया में एक नए बदलाव की शुरुआत करने वाली 5G टेक्नोलॉजी के बारे में विस्तार से।

अगर हम पिछले कुछ वर्षों को देखें तब हम ये जान सकेंगे की प्रति 10 वर्षों में Mobile Technology के field में एक Generation की बढ़ोतरी हो रही है, जैसे की-

1st Generation या 1G सन 1980s में, 2nd Generation या 2G सन 1990s में, 3rd Generation या 3G सन 2000 में, 4th Generation या 4G सन 2010s में और अब 2022 में 5th Generation या 5G की बारी है.

5G सेलुलर Technology में लेटेस्ट टेक्नोलॉजी है. ये 4G नेटवर्क का अगला वर्जन है. 5G में यूजर्स को ज्यादा Speed, कम लेटेंसी और ज्यादा Flexibility देखने को मिलेगा. आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं...


पहले के Cellular टेक्नोलॉजी Connectivity पर फोकस करते थे. 5G Cellular Technology इसमें एक कदम आगे बढ़ कर Cloud से क्लाइंट को connect करेगा. 5G एक नए प्रोसेस के जरिए वन सिंगल digital signal को डिफरेंट चैनल्स में रेगुलेट करेगा. इस प्रोसेस को OFDM कहा जाता है. OFDM ये सुनिश्चित करता है signal में कम से कम इंटरफेरेंस हो. 

5G नेटवर्क 4G के Spectrum को कवर नहीं करेगा. ये इसके लिए 5GNR या New Radio Air Interface का उपयोग करेगा. इसके अलावा ये ज्यादा bandwidth वाले technology जैसे mmWave और sub-6 GHz बैंड्स को यूज करेगा. 

5G किस तरह 4G नेटवर्क से अलग है?
(How 5G is different from 4G)

इंटरनेट स्पीड के हिसाब से बात करें तो 5G की स्पीड 4G से काफी ज्यादा होगी. 4G की पीक Speed 1 GBPS तक है. वहीं, 5G की पीक Speed की बात करें तो ये 20 GBPS तक है. इस स्पीड को पाने के लिए 5G सभी तरह के Spectrum को यूज करता है. 


इन Spectrum में लॉ बैंड, मिड बैंड और हाई बैंड तीनों ही शामिल हैं. इस वजह से ये सिर्फ हाई स्पीड कनेक्शन ही नहीं बल्कि ज्यादा कवरेज भी देता है. 5G को इस तरह बनाया गया है ये 4G नेटवर्क से 100 गुना ज्यादा ट्रैफिक देता है. 5G में लेटेंसी भी कम देखने को मिलेगा. इसमें लेटेंसी 1ms तक जा सकता है. 

Speed के अलावा भी 5G कई जगह काम आने वाला है. इससे Connectivity भी काफी बढ़िया होने वाली है. 5G टेक्नोलॉजी से ड्राइवरलेस कार, हेल्थकेयर, वर्चुअल रियल्टी, क्लाउड गेमिंग के लिए भी नए रास्ते खोलेगा. Qualcomm के अनुसार 5G अभी तक 13.1 ट्रिलियन डॉलर ग्लोबल इकोनॉमिक आउटपुट दे चुका है।

5G की सबसे बड़ी खूबी क्या है?
(Advantage of 5G Network)

5G यूजर 3 घंटों की HD मूवी 1 सेकंड से भी कम वक्त में Download कर सकेंगे जबकि अभी 4G में इस काम के लिए 10 मिनट लग जाते हैं। Video बफरिंग का टाइम भी लगभग खत्म हो जाएगा क्योंकि Data transfer बिजली की रफ्तार से होगा। 5G नेटवर्क डेटा को 1 मिलीसेकंड से भी कम समय में डिलिवर कर देंगे जबकि अभी 4G नेटवर्क इसमें 70 मिलीसेकंड लेते हैं।


क्या होंगे 5G के फायदे?
(Benefits of 5G Network)

5th जेनरेशन यानी 5G की Speed इतनी तेज होगी कि घटना होते ही उसकी सूचना पहुंच सकेगी. यानी लगभग Real Time में Communication हो सकेगा. माना जा रहा है कि इस तकनीक से गीगाबिट्स प्रति सेकंड या जीबीपीएस की तेजी से डाटा ट्रांसफर हो सकेगा. ये स्पीड बहुत ज्यादा है, जो काम को काफी आसान कर देगी. साथ ही आने वाले समय में इससे घरेलू और दफ्तर की सारी मशीनें एक-दूसरे से कन्क्टेड होंगी ताकि उन्हें ऑपरेट करने में लगा समय कम हो सके।

5G Deployment का क्या Status है?

5G की मुख्य development विश्व के इन चार देशों में सबसे ज्यादा है वो हैं United States, Japan, South Korea और China. यहाँ पर Wireless network operators ज्यादा ध्यान 5G buildouts को बनाने में दे रहे हैं. माना जा रहा है की Network operators 2030 तक लगभग करोड़ों billions dollars 5G के संदर्भ में खर्च करने वाले हैं.


भारत में कब मिलेगी 5G की सुविधा?

भारत देश में 5G Network की औपचारिक रूप से शुरुआत हो गई है. विगत 1 अक्टूबर को PM Modi ने प्रगति मैदान दिल्ली से देश में 5G सेवाओं को लॉन्च कर दिया है, जिसके बाद पहले फेज में देश के 13 शहरों में यह सेवा शुरू होने जा रही है। 

बता दें कि टेलीकॉम कंपनी Bharti Airtel और टेक्नोलॉजी कंपनी Ericsson ने सबसे पहले 15 जून 2021 को गुरुग्राम के साइबर हब में कंपनी के 5G Network का पहला Trial किया था. खबरों के मुताबिक, उस वक्त 5G Network पर 1 GBPS थ्रूपुट Data Transfer की Speed देखी गई थी.


क्या हैं 5G के खतरे? 
(What are side effects of 5G)

इसके टावर आवासीय जगहों या दफ्तरों के आसपास लगेंगे, जैसा कि अब भी होता है. ऐसे में ये भी कहा जा रहा है कि इतनी स्पीड से काम करने वाले नेटवर्क की रेडिएशन पास रहने वाले लोगों समेत पर्यावरण पर गंभीर खतरा ला सकती है. कई डरे हुए हैं कि इससे इंसानों के DNA पर असर होगा और कैंसर समेत कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. मस्तिष्क से जुड़ी घातक बीमारियों की भी खूब बात हो रही है.

क्या 5G से शरीर और ब्रेन का तापमान बढ़ सकता है?

5-जी तकनीक के खतरों पर साल 2017 में पहली बार वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने कहा था कि इससे Tissue Heating यानी ऊतकों के गर्म होने का खतरा हो सकता है. Healthline वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक ऊतक तब गर्म होते हैं, जब हमारी त्वचा किसी तरह की Electromagnetic ऊर्जा को सोख लेती है. इससे शरीर और यहां तक कि मस्तिष्क का भी तापमान बढ़ जाता है।


5G के बारे में क्या कहते हैं वैज्ञानिक?

फेडरल कम्युनिकेशन्स कमीशन (FCC) ने भी Tissue Heating जैसी बात से इनकार नहीं किया. हालांकि उसने ये भी कहा कि ये Electromagnetic ऊर्जा इतनी कम होगी कि ये त्वचा को भेद ही नहीं सकेगी. ऐसे में समस्या की बात नहीं आती है. इसके अलावा 5G के बारे में ये भी कहा जा रहा है कि इससे पर्यावरण समेत पशुओं को भी खतरा हो सकता है.


कई तरह की स्टडी में निकलकर आया कि इसकी Waves से चूहों और मेंढ़कों के Nervous System पर असर होता है. लेकिन ये भी सच है कि ये स्टडी काफी छोटे पैमाने पर हुई थीं और अब नए सिरे से ये देखा जा रहा है कि Electromagnetic तरंगों का इन पर क्या असर होता है.

अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे Share जरूर करें।

Copyright © SanjayRajput.com
All rights reserved.


what is 5g in hindi, what is 5g in india, 5g network in india latest news, 5g network in india launch date, which company launched 5g network in india, 5g network in india hindi, jio 5g network launch date in india, 5g network in india jio, 5g network launch date in india hindi, airtel 5g launch date in india in hindi, first 5g network in india, pm modi 5g launch in india hindi, 5g kya hai, 5g ke kya fayde hain, 5g se kya nuksan hai, 5g ke khatre hindi me, 5g ke fayde hindi me

Post a Comment