Search Suggest

Samrat Prithviraj Movie Review | सम्राट पृथ्वीराज मूवी रिव्यु

Samrat Prithviraj movie review: अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान पर 300 करोड़ की लागत से बनी फिल्म Samrat Prithviraj के बारे में जानिए विस्तार से...
सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj Movie) उन लोगों के लिए एक ऐतिहासिक और एजुकेशनल फिल्म है, जिन्होंने अभी तक इस महान भारतीय योद्धा का गौरवशाली इतिहास नहीं पढ़ा है।

मुझे बचपन से ही कवि चंद्र बरदाई (Chand Vardai) द्वारा सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj) को बताई गई ये पंक्तियां याद हैं-

"चार बांस चौबीस गज अंगुल अष्ट प्रमाण, ता उपर सुलतान है मत चूके चौहान"

सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj) से जुड़ी हुई यही वह पंक्तियां हैं जो हमें आज भी याद हैं और चंद्र प्रकाश द्विवेदी (Chandra Prakash Dwivedi) सफल हुए हैं यह सत्य दिखाने में। फ़िल्म उस प्रतापी सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) की कहानी दिखाती है जिसे दिल्ली से शासन करने वाले राजा के रूप में ताज पहनाया गया और उसने मोहम्मद गौरी (Muhammad Ghori) के खिलाफ पहला युद्ध जीता। 

फिल्म राजकुमारी संयोगिता की प्रेम कहानी को भी दर्शाती है कि कैसे सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj) ने राजकुमारी को उनके पिता जयचंद्र (आशुतोष राणा द्वारा अभिनीत) के सामने ही स्वयंवर से भगा लिया था।


ये भी पढ़ें-अफगानिस्तान से पृथ्वीराज चौहान की अस्थियों को भारत वापस लाने वाले वीर की कहानी

अक्षय कुमार (Akshay Kumar) ने सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) की भूमिका बहुत अच्छी तरह से निभाई है लेकिन इसे और अधिक प्रभावी ढंग से निभाने के लिए उन्हें और अधिक भारी शरीर की आवश्यकता थी।


मानुषी छिल्लर (Manushi Chhillar) को देखकर यह अहसास नहीं होता कि यह उनकी पहली फिल्म है और उन्होंने पूरे परिपक्व अभिनय के साथ अपनी भूमिका निभाई है। "जौहर" से पहले उनका डांस नंबर कुछ हटकर लगता है, शायद निर्देशक दर्शकों को दिखाना चाहते थे कि वह अच्छा डांस कर सकती हैं। या यूं कहें कि ये तो बॉलीवुड का ट्रेंड ही रहा है।

कवि चंद वरदाई (Chand Vardai) और सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj) के दोस्त के रूप में सोनू सूद (Sonu Sood) की भूमिका वास्तव में अच्छी है। 


काका कान्हा (Kaka Kanha) के रूप में संजय दत्त (Sanjay Dutt) को उनकी उम्र के हिसाब से कास्ट किया गया है और अच्छे डायलॉग्स के साथ उन्होंने दमदार भूमिका निभाई है। साक्षी तंवर (Sakshi Tanwar) ने अपनी बेटी संयोगिता का समर्थन करते हुए छोटी और प्रभावशाली भूमिका निभाई है।


इसे भी पढ़ें-घर बैठे पैसे कमाने के आसान तरीके

जयचंद्र (Jaychandra) के रूप में आशुतोष राणा (Ashutosh Rana) ने अपने दामाद को धोखा दिया और कन्नौज (Kannauj) के राजा के रूप में नफरत करने वाले पात्रों में से एक है। मानव विज (Manav Vij) द्वारा निभाई गई मोहम्मद गौरी (Muhammad Ghori) की भूमिका उनकी तुलना पद्मावत के रणवीर सिंह से करती है लेकिन मोहम्मद गौरी खतरनाक नहीं लगता। सम्राट पृथ्वीराज (Samrat Prithviraj) को बंदी बनाते हुए उसे चालाक दिखाया गया है।


सम्राट पृथ्वीराज मूवी (Samrat Prithviraj Movie) की गति अच्छी है, संगीत औसत है इसलिए सिनेमाघर से बाहर निकलने के बाद आप गाने भूल जाएंगे। कुछ डायलॉग्स में हिंदुओं द्वारा बोले गए उर्दू शब्द अजीब लगते हैं। कुल मिलाकर फिल्म अच्छी और देखने योग्य है। सम्राट पृथ्वीराज मूवी (Samrat Prithviraj Movie) के कुछ सीन आपको खुशी देते हैं तो कुछ आपके रोंगटे भी खड़े कर देते हैं।

ये भी पढ़ें-ये है कम उम्र में हार्ट अटैक आने की असली वजह

सम्राट पृथ्वीराज मूवी (Samrat Prithviraj Movie) पिछले कुछ वर्षों में बॉलीवुड द्वारा पेश की गई सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक कही जा सकती है। कास्टिंग, निर्देशन, संगीत, युद्ध के दृश्य, छायांकन, संवाद, अभिनय, ऐतिहासिक सेट आदि सभी कुछ आश्चर्यजनक रूप से परिपूर्ण लगते हैं।

सम्राट पृथ्वीराज मूवी (Samrat Prithviraj Movie) में अक्षय कुमार (Akshay Kumar) और मानुषी छिल्लर (Manushi Chhillar) ने शानदार अभिनय किया है, खासकर अक्षय कुमार ने। पहले हाफ में फ़िल्म की पकड़ कमाल की है। यह फ़िल्म दूसरे हाफ में गति को थोड़ा खोती हुई सी दिखती है लेकिन तभी कुछ ऐसा होता है कि आप फिर से रोमांचित हो उठते हैं। 

अंत में क्लाइमेक्स के दौरान तो फ़िल्म जबरदस्त तरीके से आपको जकड़ लेती है। कुल मिलाकर सम्राट पृथ्वीराज मूवी (Samrat Prithviraj Movie) एक महान ऐतिहासिक फिल्म है जिसे हर भारतीय को सिनेमाघरों में जाकर अवश्य देखना चाहिए।

इसे भी पढ़ें-जानिए, कम खर्च में नेपाल की सैर कैसे करें?

सम्राट पृथ्वीराज चौहान की मूल कहानी
Real Story of Samrat Prithviraj Chauhan in Hindi

भारत के अंतिम हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) शब्द भेदी बाण चलाने में बहुत निपुण थे। मोहम्मद गौरी (Muhammad Ghori) द्वारा बंधक बनाए जाने और आंखें फोड़कर अंधे कर दिए जाने के बाद गौर देश में सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) अपने शब्दभेदी बाण चलाने की परीक्षा देने जा रहे थे।

मोहम्मद गौरी (Muhammad Ghori) एक बहुत ऊंचे स्थान पर बैठा था। पृथ्वीराज चौहान (Prithviraj Chauhan) और उनके राजकवि चन्द्रवरदाई (Chand Vardai) उनके साथ ही नीचे जमीन पर बैठे हुए थे। 25 गज ऊंचाई पर घंटा टंगा हुआ था। अंधे होने के कारण उन्हें केवल घंटे की आवाज पर ही निशाना लगाना था। पूरी दूरी डिग्री, बांये-दाहिने का हिसाब लगाकर कवि चंद वरदाई ने सबको सुनाकर अपने सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) को यह जानकारी दी-

"चार बांस चौबीस गज अंगुल अष्ट प्रमाण, ता उपर सुलतान है मत चूके चौहान"

सम्राट पृथ्वीराज चौहान (Samrat Prithviraj Chauhan) ने अपनी अंगुलियों पर गणना की और जैसे ही घंटा बजा, घंटे पर निशाना लगाने की जगह सीधे मोहम्मद गौरी को ही निशाना बना दिया। धनुष से शब्दभेदी बाण छूटा और जाकर सीधे लगा सुलतान मोहम्मद गौरी के सीने पर। बाण लगते ही गौरी अपने तख़्त से लुढ़कर सीधे नीचे आ गया और उसके प्राण पखेरू उड़ गए। उसके मरते ही उसकी सेना में हलचल मच गयी और सारी सेना पृथ्वीराज और चन्द्रवरदाई को मारने उनकी ओर दौड़ पड़ी, लेकिन सेना के आने से पहले ही दोनों ने एक दूसरे के सीने में छुरियां घोंप दी और इससे पहले की किसी तुर्क का हाथ उन तक पहुंचता वे दोनों स्वर्गवासी हो गए।

सम्राट पृथ्वीराज फ़िल्म का ट्रेलर यहाँ देखें

यदि आपको यह मूवी रिव्यु पसंद आया हो तो इसे Share जरूर करें।

©SanjayRajput.com All rights reserved

samrat prithviraj movie review in hindi, samrat prithviraj movie review imdb, samrat prithviraj chauhan new movie, Prithviraj Chauhan movie release date 2022, prithviraj full movie hd download, samrat prithviraj chauhan history in hindi, samrat prithviraj chauhan story in hindi, manushi chhillar first movie in hindi, prithviraj chauhan movie review in hindi

Post a Comment