Header Ads

अजीत डोभाल-देश का गौरव


देश के गौरव व मान-सम्मान को नई ऊँचाईयों तक ले जाने वाले और पाकिस्तान को नेस्तनाबूद कर देने वाले देश के गौरव James Bond of India के नाम से मशहूर अजीत डोभाल Ajit Doval NSA का जिक्र बहुत जरूरी है। बॉलीवुड की कई फिल्मों में भी इनके कैरेक्टर को दिखाया जा चुका है और अब तो इनकी बॉयोपिक भी बन रही है।

तो आइए जानते हैं अजीत डोभाल के बारे में विस्तार से..

सर्जिकल स्‍ट्राइक के मास्‍टर माइंड माने जाने वाले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल Ajit Doval NSA का जन्म 20 जनवरी 1945 को एक गढ़वाली उत्तराखण्ड परिवार में हुआ था, उनके पिता आर्मी में ब्रिगेडियर थे।

वह एक ऐसे भारतीय हैं, जो खुलेआम पाकिस्तान को एक और मुंबई के बदले बलूचिस्तान छीन लेने की चेतावनी देने से गुरेज़ नहीं करते. वह पाकिस्तान के लाहौर में अपने देश की रक्षा के लिए 7 साल तक मुसलमान बनकर रहे थे. वे भारत के ऐसे एकमात्र नागरिक हैं, जिन्हें सैन्य सम्मान कीर्ति चक्र से सम्मानित किया गया है. यह सम्मान पाने वाले वह पहले अफसर हैं.

ये हैं अजीत डोभाल Ajit Doval NSA के बारे में कुछ खास बातें

- अजीत डोभाल आई.पी.एस. और भारत के वर्तमान राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हैं.

- अजमेर मिलिट्री स्कूल से पढ़ाई करने के बाद उन्होंने आगरा यूनिवर्सिटी से इकोनॉमिक्स में पोस्ट-ग्रेजुएशन किया है.

- अजीत डोभाल ने 1968 में IPS का एग्जाम टॉप किया, केरल Batch के IPS Officer बने। अपनी नियुक्ति के चार साल बाद साल 1972 में इंटेलीजेंस ब्यूरो से जुड़ गए थे.

- Ajit Doval NSA को 17 साल की Duty के बाद ही मिलने वाला Medal 6 साल की Duty के ही बाद मिला।

- अजीत डोभाल ने करियर में ज्यादातर समय खुफिया विभाग में ही काम किया है. कहा जाता है कि वह सात साल तक पाकिस्तान में खुफिया जासूस रहे.

- साल 2005 में एक तेज तर्रार खुफिया अफसर के रूप में स्थापित अजीत डोभाल इंटेलीजेंस ब्यूरो के डायरेक्टर पद से रिटायर हो गए.

- इसके बाद साल 2009 में अजीत डोभाल विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन के फाउंडर प्रेसिडेंट बने. इस दौरान न्यूज पेपर में लेख भी लिखते रहे.

- साल 1989 में अजीत डोभाल ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर से चरमपंथियों को निकालने के लिए 'ऑपरेशन ब्लैक थंडर' का नेतृत्व किया था.

- Ajit Doval NSA ने पंजाब पुलिस और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के साथ मिलकर खुफिया ब्यूरो के अधिकारियों के दल के साथ मुख्य भूमिका निभाई थी.

- जम्मू-कश्मीर में घुसपैठियों और शांति के पक्षधर लोगों के बीच काम करते हुए डोभाल ने कई आतंकियों को सरेंडर कराया था.

- अजीत डोभाल 33 साल तक नार्थ-ईस्ट, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में खुफिया जासूस रहे हैं, जहां उन्होंने कई अहम ऑपरेशन किए हैं.

- 30 मई, 2014 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अजीत डोभाल को देश के 5वें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के रूप में नियुक्त किया.

- ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान Ajit Doval NSA ने एक जासूस की भूमिका निभाई और भारतीय सुरक्षा बलों के लिए महत्वपूर्ण खुफिया जानकारी उपलब्ध कराई, जिसकी मदद से सैन्य ऑपरेशन सफल हो सका.

-पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान Ajit Doval NSA सबसे ज्यादा चर्चा में आए.

-अजीत डोभाल 1987 में खालिस्तानी आतंकवाद के समय पाकिस्तानी Agent बनकर दरबार साहिब के अंदर पहुंचे, 3 दिन आतंकवादियों के साथ रहे। आतंकवादियों की सारी Information लेकर Operation Black Thunder को सफलता पूर्वक अंजाम दिया।

-Ajit Doval NSA को 1988 में कीर्ति चक्र मिला, देश का एक मात्र Non Army Person जिसे यह Award मिला है।

-Ajit Doval NSA असम गए, वहां उल्फा आतंकवाद को कुचला।

-1999 में Plane Hijacking के समय आतंकवादियों से Dealing की !

-RSS के करीबी होने के कारण मोदी ने सत्ता में आते ही NSA (National Security Advisor) बनाया !

-बलोचिस्तान में Raw फिर से Active की, बलोचिस्तान का मुद्दा International बनाया।

-केरल की 45 ईसाई नर्सों का Iraq में ISIS ने किडनैप किया। Ajit Doval NSA खुद इराक़ गए, उनकी वजह से ISIS से पहली बार Hostages ज़िंदा बिना बलात्कार हुए वापिस लौटे। इसके लिए उन्हें राष्ट्रपति अवार्ड मिला।

-2015 मई में भारत के पहले सर्जिकल Operation को अंजाम दिया। भारत की सेना Myanmar में 5 किमी तक घुसी, 50 आतंकवादी मारे।

-नागालैंड के आतंकवादियों से भारत की इतिहासिक Deal करवाई, आतंकवादी संगठनों ने हथियार डाले।

-भारत की Defence Policy को Agressive बनाया। भारत की सीमा में घुस रहा पाकिस्तानी Ship बिना किसी Warning के उड़ाया, कहा बिरयानी खिलाने वाला काम नही कर सकता।

-कश्मीर में सेना को खुली छूट दी, Pallet Gun सेना को दिलवाईं। पाकिस्तान को दुनिया के मुस्लिम देशों से ही तोड़ दिया।

-September 2016 आज़ाद भारत के इतिहास का 1971 के बाद सबसे ऐतिहासिक दिन। डोभाल के बुने गए Surgical Operation को सेना ने दिया अंजाम। PoK में 3 किलोमीटर घुसे। 40 आतंकी और 9 पाकिस्तानी फौजी मारे। दोनों Surgical Strikes में Zero Casuality. Air Surgical Strike की सफलता को तो दुनिया ने सेटेलाइट द्वारा देखा।

-अभी हाल ही में Ajit Doval NSA ने कश्मीर से धारा 370 हटाने व शांति की स्थापना में विशेष योगदान दिया।

-Ajit Doval NSA ने देशभक्त हिंदू संगठन Vivekanand Youth Forum की भी स्थापना की।

पाकिस्तान को हाशिये पर लाकर उसके आतंकवाद को नेस्तनाबूद कर देने वाले Ajit Doval NSA अजीत डोभाल कहते है की मैं इस्लामाबाद भी जीत सकता हूँ।

हमें गर्व है ऐसे समर्पित देशभक्त पर ।

जय हिंद!!

वंदेमातरम्!!

भारतमाता की जय!!

"आओ सलाम करे उन्हें जिनके हिस्से में ये मुकाम आता हैं

खुशनसीब होते हैं वो लोग जिनका लहू वतन के काम आता हैं"

No comments:

Powered by Blogger.