Search Suggest

Nepal Tour: जानिए, नेपाल की सैर कब और कैसे करें?


क्या आप किसी ऐसे देश के बारे में जानते हैं जिसका यह वर्ष 2022 की जगह 2079 चल रहा हो? जिसका नया साल 1 जनवरी नहीं अप्रैल में पड़ता हो? जिसका कोई स्वतंत्रता दिवस ही न हो? जिसका राष्ट्रीय खेल गिल्ली डंडा हो? जहाँ के लोग हाथ ही न मिलाते हों?

जी हां दुनिया में एक ऐसा देश भी है जो खुद में ऐसी बहुत सी अनोखी बातें समेटे हुए है। हम बात कर रहे हैं अनेक अद्भुत आश्चर्यों से भरे हुए एक अनोखे देश नेपाल (Nepal) के बारे में। प्राकृतिक सुंदरता का वरदान प्राप्त देश नेपाल जिसकी सीमाओं की सुरक्षा खुद हिमालय (Himalaya) करता है।

नेपाल का इतिहास (History of Nepal in Hindi)

नेपाल का इतिहास 2000 सालों से भी अधिक पुराना है। इसकी सीमाएं भारत और चीन के साथ शेयर होती है। 2 शक्तिशाली देशों के बीच स्थित होने के बावजूद नेपाल एक ऐसा देश है जो किसी अन्य देश का गुलाम नहीँ हुआ। आज तक कोई विदेशी ताकत नेपाल को अपना गुलाम नहीं बना पाई। यही कारण है कि नेपाल का कोई स्वतंत्रता दिवस नहीं है। नेपाल का राष्ट्रीय पशु गाय है। यहाँ लोग हाथ नहीं मिलाते बल्कि हाथ जोड़कर नमस्ते करते हैं।

क्षेत्रफल 147516 वर्ग किमी है। इस लिहाज से ये विश्व में 93 वें नम्बर पर आता है। यहाँ की कुल आबादी 3 करोड़। आबादी के मामले में दुनिया का 49 वां देश है। यह एक गरीब देश माना जाता है और इसकी कुल GDP $30 बिलियन है। आधी से अधिक आबादी एक दिन में आधा डॉलर से भी कम कमा पाती है। यही कारण है कि बड़ी संख्या में नेपाली लोग भारत आकर नौकरी और व्यवसाय करते हैं।

नेपाल का नाम एक महान संत नेनी के नाम पर रखा गया है। नेपाल का नेशनल फ्लैग (National Flag of Nepal) अन्य देशों जैसा Rectangle फ्लैग नहीं बल्कि 2 त्रिकोण से मिलकर बना है। ये 2 त्रिकोण माउंट एवरेस्ट (Mount Everest) को दर्शाते हैं और इस पर लगे चांद और तारे यहाँ रहने वाले विभिन्न धर्मों की एकता का परिचय देते हैं।


शायद आपको नहीं पता होगा कि नेपाल का पूरा नाम Federal Democratic Republic of Nepal है।

दुनिया की 10 सबसे बड़ी चोटियों में से 8 चोटियां नेपाल में ही स्थित हैं। यह देश समुद्र से काफी अधिक ऊंचाई पर स्थित है इसलिए इसे दुनिया की छत भी कहते हैं। इसे कंट्री ऑफ ग्लोरी (Country of Glory) भी कहा जाता है। क्योंकि यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता बहुत ही मनमोहक है।


दुनिया का एकमात्र हिन्दू राष्ट्र नेपाल ही था लेकिन वर्ष 2007 में नेपाल के संविधान में संसोधन कर इसे हिन्दू राष्ट्र से धर्म निरपेक्ष राष्ट्र घोषित कर दिया गया। यहाँ की 81% आबादी हिन्दू धर्म को मानने वाली है। यहाँ 9% बौद्ध, 4% मुस्लिम तथा अन्य धर्म के लोग रहते हैं। वैसे तो भारत में नेपाल से कहीं अधिक हिन्दू जनसंख्या है लेकिन अभी तक भारत को हिन्दू राष्ट्र नहीं घोषित किया गया है।

नेपाल अपने मंदिरों के लिए भी मशहूर है। ये हिंदुओं और बौद्ध धर्म की आस्था का प्रमुख केंद्र माना जाता है। यहाँ सैकड़ों वर्ष पुराने मंदिर देखने को मिलते हैं। यह साउथ एशिया का सबसे पुराना देश है। गौतम बुद्ध की जन्मस्थली लुम्बिनी भी नेपाल में ही स्थित है। भारत की तरह ही यह देश भी विभिन्नताओं में एकता वाला देश है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इस छोटे से देश में 123 भाषाएं बोली जाती हैं।

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि जून 2017 से पहले तक गिल्ली डंडा यहाँ का राष्ट्रीय खेल हुआ करता था लेकिन जून 2017 में बॉलीवाल को यहाँ का राष्ट्रीय खेल घोषित कर दिया गया।

जबकि पूरी दुनिया में वर्ष 2022 चल रहा है तो नेपाल में वर्ष 2079 है। क्योंकि नेपाल में आज भी ईसा पूर्व कैलेंडर की जगह विक्रम संवत कैलेंडर इस्तेमाल होता है। इसलिए यहाँ नया साल 1 जनवरी नहीं बल्कि अप्रैल के मध्य में मनाया जाता है। यहाँ टाइम जोन भी माउंट एवरेस्ट का चलता है। यहाँ का टाइम जोन दुनिया से 45 मिनट पीछे है।

नेपाल में साक्षरता दर आज भी 68% ही है। यहाँ साप्ताहिक अवकाश रविवार न होकर शनिवार को होता है और शुक्रवार को दफ्तरों में हाफ डे होता है।

भारत और नेपाल के संबंध हमेशा से बहुत ही मैत्रीपूर्ण रहे हैं। नेपाली लोग भारत में आकर रोजगार पाते हैं। नेपाली नागरिकों को भारतीय सेना में भर्ती करने के लिए भारत के गोरखपुर में गोरखा रिक्रूटिंग डिपो (Gorkha Recruiting Depot-GRD) बनाया गया है। जिसके द्वारा नेपाली युवकों की भारतीय सेना में भर्ती की जाती है।



Internet Speed in Nepal

इंटरनेट के मामले में नेपाल आज भी दुनिया से काफी पीछे है। आज जबकि सारी दुनिया 5g की ओर अग्रसर है यहाँ आज भी 2g ही इस्तेमाल हो रहा है। यहाँ मैक्सिमम इंटरनेट स्पीड आज भी 256 Kbps ही है।

नेपाल की बिजली व्यवस्था- Electricity in Nepal

नेपाल के अधिकतर इलाकों में आज भी 15-16 घंटे से अधिक बिजली नहीं मिलती है। नेपाल के पास जितना पानी है वो यदि उसका सही इस्तेमाल करे और हाइड्रो पावर प्लांट लगा दे तो अपने देश को तो 24 घण्टे बिजली दे ही सकता है साथ ही अन्य देशों को बिजली बेचकर अपनी अर्थ व्यवस्था को भी मजबूत कर सकता है। लेकिन यहाँ की सरकारों ने आज तक कभी इस दिशा में नहीं सोचा। 

बरसात के दिनों में नेपाल द्वारा पानी छोड़ने के कारण भारत के सीमावर्ती जिले गोरखपुर, महराजगंज और सिद्धार्थनगर में बाढ़ की विकट स्थिति पैदा हो जाती है।  यहाँ ऐसे भी गांव हैं जहाँ से शहर तक आने के लिए लोगों को 3-4 घण्टे तक पैदल चलना पड़ता है।

नेपाल में घूमने लायक खूबसूरत स्थान | Top 10 Tourist Places To Visit In Nepal In Hindi

नेपाल के प्रमुख पर्यटन स्थल – Famous Tourist Places of Nepal In Hindi

पर्यटन नेपाल की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। पूरी दुनिया से लोग यहाँ सैर-सपाटा और घूमने के लिए आते हैं। आइए जानते हैं नेपाल के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में।

काठमांडू – Kathmandu Nepal In Hindi

अगर आप पहाड़ों का देश नेपाल घूमने जा रहे हैं, तो नेपाल की राजधानी काठमांडू जाना न भूलें। क्योंकि यह शहर 1400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित होने के साथ-साथ अपने अंदर कई खूबसूरत मंदिर, मठ और अन्य कई पर्यटक स्थल को समेटे हुए है। यहां पर कई ऐसे पर्यटन स्थल हैं जो पर्यटकों को एक अलग ही अहसास कराते हैं।

पोखरा नेपाल का प्रमुख पर्यटन स्थल – Nepal Tourist Places Pokhara in Hindi

पोखरा नेपाल की एक महानगरी हैं। पोखरा नेपाल के पर्यटक राजधानी के साथ-साथ काठमांडू के बाद सबसे बड़ा दूसरा शहर है। यह शहर 900 मीटर से भी ज्यादा ऊंचाई पर स्थित होने के साथ-साथ अपने अंदर कई ऐसे पर्यटक स्थल को बसाये हुए हैं, जहां आए दिन पर्यटकों की अधिक संख्या में भीड़ होती हैं। पोखरा शहर के अंदर बसे हुए पर्यटन स्थल की सूची के बारे में बात की जाए तो फेवा झील, शांति स्तूप, ताल बाराही मंदिर, घोरपानी हिल्स, डेविस फॉल आदि का नाम शामिल है।


लुम्बिनी पर्यटन- Lumbini Nepal In Hindi

अगर आप इतिहास के थोड़ा बहुत भी जानकार होंगे तो आपने लुंबिनी (Lumbini) का नाम जरूर सुना होगा। हिमालय पर्वत (Himalaya) की गोद में बसा हुआ खूबसूरत सा दिखने वाला स्थान लुंबिनी है, जहां गौतम बुद्ध (Gautam Buddh) का जन्म हुआ था। आज के समय में भी यह नेपाल का बहुत ही शांत एवं बौद्ध धर्म (Buddhism) का प्रमुख तीर्थ स्थल माना जाता है। इसे यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल (UNESCO World Heritage) के रूप में भी शामिल किया गया है। लुंबिनी में ही आपको सम्राट अशोक (Samrat Ashoka) के स्मारक एवं माता माया देवी का मंदिर देखने को मिलेगा। आप अगर नेपाल ट्रिप (Nepal Trip in hindi) पर जाने की प्लानिंग कर रहे हैं तो लुम्बिनी को अपनी लिस्ट में शामिल करना न भूले।


पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल – Pashupatinath Temple Kathmandu Nepal In Hindi

पशुपतिनाथ (Pashupatinath Mandir) के बारे में तो आप लोगों ने जरूर सुना होगा। यह नेपाल की शान कहा जाता है। यह भगवान शिव (Lord Shiva) के 8 प्रमुख धामों में से एक है। पशुपतिनाथ मंदिर बागमती नदी के किनारे राजधानी काठमांडू (Kathmandu) शहर से निकट ही पूर्व दिशा में स्थित है। यह काफी बड़े हिस्से में फैला हुआ एक धार्मिक स्थल है। इस मंदिर को भी 1979 में यूनेस्को विश्व धरोहर (UNESCO World Heritage) के रूप में शामिल किया गया था। यहां पर प्रतिदिन हजारों की संख्या में तीर्थयात्री एवं पर्यटक घूमने आते हैं। पशुपतिनाथ मंदिर (Pashupatinath Mandir) में चार द्वार हैं, जिसके मुख्य द्वार से केवल हिंदूओं को ही जाने की अनुमति होती है, गैर हिंदुओं को नहीं। इस मंदिर के चारों ओर चांदी के दरवाजे लगे हैं। सावन के महीने में यहाँ अद्भुत दृश्य देखने को मिलता है।


इसे भी पढ़ें...महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन : जहाँ मिलती है सभी पापों से मुक्ति

जनकपुर नेपाल – Janakpur Nepal In Hindi

जनकपुर (Janakpur) नेपाल का एक बेहद ही खूबसूरत शहर हैं। यह शहर रामायण से जुड़ा हुआ है। जनकपुर भारतीय सीमा के बिल्कुल करीब में स्थित हैं। यह वही जनकपुर है जहां माता सीता का जन्म हुआ था। यह वही जनकपुर है जहां मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का विवाह हुआ था। यह शहर हिंदुओं की आस्था से जुड़ा हुआ है। यह शहर अपने अंदर कई भव्य मंदिर और वास्तु कला को समेटे हुए है। जनकपुर (Janakpur Nepal) निश्चित ही एक घूमने लायक पर्यटन स्थल है।


ये भी पढ़ें...जानिए मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की वनवास यात्रा के गवाह बने प्रमुख स्थलों के बारे में

भक्तपुर नेपाल – Bhaktapur Nepal In Hindi

भक्तपुर नेपाल के काठमांडू घाटी में स्थित एक तीर्थस्थल है। इसके नाम से साफ लगता है, कि यह भक्तों की नगरी है। यानी कि यहां तीर्थस्थल ज्यादा होंगे। यहां पर तीर्थ स्थल काफी ज्यादा मात्रा में है, यही वजह है कि इसे भक्तों का शहर कहा जाता है। इसलिए जो भी लोग भक्तपुर में आते हैं, वह धार्मिक स्थलों के दर्शन करने ही आते हैं। वैसे कुछ लोग यहाँ घुमावदार सड़कों का लुत्फ उठाने भी आते हैं।


चितवन नेशनल पार्क – Chitwan National Park Nepal In Hindi

यदि आप एक एनिमल लवर हैं या वन्य जीवों को देखने में रुचि रखते हैं और नेपाल ट्रिप पर जा रहे हैं, तो चितवन नेशनल पार्क (Chitwan National Park Nepal) जरूर जाएं। क्योंकि आपको यहां पर कई ऐसी जानवरों को देखने का भी मौका मिल जाएगा, जो दुनिया के विभिन्न क्षेत्रों से लुप्त होने वाले हैं। इस पार्क में दिखने वाले जानवरों की बात की जाए तो बंगाल टाइगर, एक सींग वाला गैंडा, हाथी, तेंदुआ, भालू इसी तरह के अन्य जानवर भी यहाँ देखने को मिलते है। यहां पर घूमने के लिए आपको जीप, सफारी, जंगल ट्रेक, डोंगी सवारी, हाथी सवारी आदि की सुविधा भी मिल जाएगी।


नेपाल की यात्रा कैसे करें | भारत से नेपाल कैसे पहुंचे ? How to travel in Nepal? How to reach India to Nepal in Hindi

कम खर्च में नेपाल की यात्रा कैसे करें | How To Travel To Nepal For Cheap Price In Hindi

दिल्ली से नेपाल की यात्रा कम खर्च में कैसे करें? Delhi to Nepal Tour in Hindi

दिल्ली से रक्सौल- Delhi to Raxaul in Hindi

अगर आप दिल्ली से नेपाल (Delhi to Nepal) की यात्रा कम खर्च में करना चाहते हैं तो आपको दिल्ली से ट्रेन पकड़ कर नेपाल जाना होगा जो की फ्लाइट और बस से काफी सस्ती होती है। दिल्ली से रक्सौल (Delhi to Raxaul) तक सत्याग्रह एक्सप्रेस (Satyagrah Express) ट्रेन से जाना सबसे बेस्ट रहता है। यह ट्रेन दिल्ली से रक्सौल के लिए प्रतिदिन चलती है, जिसका स्लीपर कोच का किराया ₹470/- है।


रक्सौल से नेपाल- Raxaul to Nepal in Hindi

आप रक्सौल (Raxaul) से ऑटो रिक्शा पकड़ कर नेपाल बॉर्डर जा सकते हैं, जिसका किराया ₹ 20-30 होता है। नेपाल बॉर्डर पहुंचने के बाद आप वहां पर इंडियन रुपया को नेपाली रुपया में एक्सचेंज करवा लें। अगर आप 100 इंडियन रुपया को नेपाली रुपया में एक्सचेंज करवाते हैं, तो आपको 159 नेपाली रुपया मिल जाएगा। नेपाल बॉर्डर क्रॉस करने के लिए आपको भंसार परमिट की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि भंसार परमिट भी रोहतांग पास परमिट के जैसा होता है, जिसे केवल वाहनों को बॉर्डर क्रॉस करने के लिए बनवाना पड़ता है।

नेपाल बॉर्डर से काठमांडू- Nepal Border to Kathmandu in Hindi

नेपाल बॉर्डर से अगर आप काठमांडू जाना चाहते हैं, तो आपको काठमांडू के लिए बस और टाटा सुमो मिल जाएगी, जिससे आप काठमांडू आसानी से पहुंच सकते हैं। अगर आप नेपाल बॉर्डर यानी बीरगंज से काठमांडू बस से जाते हैं, तो आपको काफी भीड़ का भी सामना करना पड़ सकता है, इसलिए आप टाटा सुमो से ही काठमांडू चले जाएं, जिसका किराया ₹ 400 के आसपास रहता है।

गोरखपुर से नेपाल- Gorakhpur to Nepal Tour in Hindi, Gorakhpur to Sonauli Border in hindi, Nepal tour from Gorakhpur

यदि आप गोरखपुर होकर नेपाल जाना चाहें तो आप फ्लाइट से गोरखपुर एयरपोर्ट (Gorakhpur Airport) आकर यहाँ से बस या प्राइवेट कैब से सोनौली बॉर्डर (Sonauli Border) तक जा सकते हैं। आप ट्रेन या बस द्वारा भी गोरखपुर जा सकते हैं। गोरखपुर से सोनौली नेपाल बॉर्डर (Gorakhpur to Sonauli Nepal Border) सिर्फ 101 किमी है। गोरखपुर से नेपाल बॉर्डर पहुंचने में मात्र ढाई घण्टे का समय लगता है।


यदि आप Gorakhpur to Nepal घूमने जाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए नंबर पर संपर्क करके सिर्फ ₹6666/- में एक अच्छा Tour Package ले सकते हैं। इनके द्वारा आपको Lumbani, Chitwan, Kathmandu, Pokhra 5 night+6 days का Tour Package सिर्फ ₹6666/- प्रति व्यक्ति में मिल जाएगा, जिसमें AC गाड़ी और Hotel के AC Room का खर्च भी शामिल है।

नेपाल जाने का सबसे अच्छा समय | Best Time To Visit Nepal In Hindi

मार्च से मई

मार्च से मई के समय नेपाल ट्रिप (Nepal trip in hindi) पर जाना सबसे अच्छा माना जाता है। मार्च से मई के बीच नेपाल का मौसम सुहावना और आसमान बिल्कुल साफ रहता है। अगर आप इस समय में नेपाल ट्रिप पर जाते हैं, तो मौसम साफ होने की वजह से आप हिमालय पर्वत के साथ-साथ कई सारी अन्य पहाड़ों की श्रेणियां को भी आसानी से देख सकते हैं। नेपाल में पर्वतों की कई श्रेणियां होते हुए भी इस समय में लैंड स्लाइड का खतरा नहीं रहता है। साथ ही अगर आप इस समय नेपाल विजिट करने का प्लान करते हैं, तो आप नेपाल के सभी प्रमुख जगहों पर विजिट कर सकते हैं।

जून से अगस्त

यह समय नेपाल जाने वाले पर्यटकों के लिए काफी घातक साबित हो सकता है। आप जानते होंगे कि जुलाई और अगस्त का महीना भारत में मॉनसून का सीजन माना जाता है, लेकिन नेपाल में जून से ही मॉनसून की शुरुआत हो जाती है, जो अगस्त महीने के अंतिम तक चलती है। मॉनसून में बारिश के दौरान पहाड़ गीला हो जाते हैं, जिससे लैंड स्लाइड का खतरा काफी बढ़ जाता है और नेपाल में ऐसा बहुत ही कम होता है, जब वहां पर लैंड स्लाइड ना हो। ऐसे में जून से अगस्त के दौरान नेपाल की यात्रा आपको खतरे में भी डाल सकती है।

सितंबर से अक्टूबर

सितंबर से अक्टूबर का महीना भी मार्च से मई जैसा ही होता है, लेकिन इस समय नेपाल में थोड़ी ठंड महसूस होती है। अगर आप उन प्रकृति प्रेमियों में से हैं, जो हरे भरे पेड़-पौधे, पहाड़ और अपने आसपास सभी जगहों पर हरियाली देखने के शौकीन हैं, तो आपको नेपाल ट्रिप (Nepal trip in hindi) का प्लान सितंबर से अक्टूबर के बीच ही बनाना चाहिए, क्योंकि सितंबर से अक्टूबर के बीच आप इन सभी चीजों को एकदम करीब से देख सकते हैं।

नवंबर से फरवरी

बता दें कि पहाड़ों वाले स्थान पर गर्मी और सर्दी काफी ज्यादा होती है और ये बात आपको भी मालूम होगी कि नेपाल अपने यहां अलग-अलग पहाड़ों और पर्वतों की श्रेणियों की वजह से बहुत प्रसिद्ध है। दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट भी यहीं है, जो भले ही नेपाल और तिब्बत दोनों देशों में फैली हुई है, लेकिन माउंट एवरेस्ट की सबसे ऊंची चोटी नेपाल में ही स्थित है। ऐसे में नेपाल में अधिक सर्दी पड़ना साधारण बात है।

दोस्तों अगर आपके पास बजट ज्यादा है, तो ही आप नवंबर से फरवरी के बीच नेपाल ट्रिप पर जाएं, क्योंकि इसके लिए आपके पास सर्दी का सभी सामान होना बहुत जरूरी है। नेपाल के कुछ स्थानों पर आपको बर्फ भी देखने को मिलेगा। अगर आप उन स्थानों पर जाते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि आपके पास सर्दी का इंतजाम होना कितना जरूरी है।

दोस्तों, यदि आपको यह Article पसंद आया हो तो इसे Share जरूर करें।

©SanjayRajput.com


nepal historical places, nepal, nepali video, nepal tourist places pokhara, nepal tourist places in hindi, nepal tourist places list, nepal tourist places map, nepal tourist places near kathmandu, nepal tourist places near me, Top 10 Tourist Places To Visit In Nepal In Hindi, Famous Tourist Places of Nepal In Hindi, Best Time To Visit Nepal In Hindi, Gorakhpur to Nepal Tour in Hindi, Kathmandu Nepal In Hindi, Lumbini Nepal In Hindi, Pashupatinath Temple Kathmandu Nepal In Hindi, Janakpur Nepal In Hindi, Bhaktapur Nepal In Hindi, Chitwan National Park Nepal In Hindi, How To Travel To Nepal For Cheap Price In Hindi, Delhi to Raxaul in Hindi, Nepal Border to Kathmandu in Hindi, Gorakhpur to Nepal Tour in Hindi, Gorakhpur to Nepal border in Hindi, Gorakhpur to Sonauli border in Hindi, nepal tour from gorakhpur

Post a Comment