नेहरू को चुनौती देने वाले निडर सैनिक की कहानी

साल था 1959, जगह थी अमृतसर. भारतीय सेना के कुछ अधिकारी और उनकी पत्नियाँ अपने एक सहकर्मी को छोड़ने के लिए रेलवे स्टेशन गए हुए थे। कुछ मनचलों ने महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी की और उनके साथ छेड़छाड़ की कोशिश की. सेना के अधिकारियों ने उन गुंडों का पीछा किया जो पास के एक सिनेमा थिएटर में जाकर शरण लिए हुए थे।

मामले की सूचना कमांडिंग ऑफिसर कर्नल ज्योति मोहन सेन को दी गई। घटना के बारे में जानने पर, कर्नल ने सिनेमा हॉल को सैनिकों द्वारा घेरने का आदेश दे दिया। 

जिसके बाद सभी गुंडों को घसीटकर बाहर निकाला गया। गुंडों का सरदार मदमस्त और सत्ता के नशे में चूर था, जो कोई और नहीं बल्कि तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के करीबी सहयोगी और पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों का बेटा था।

हुआ ये की सभी गुंडों को उनके अंडरवियर तक उतारकर नंगे अमृतसर की सड़कों पर घुमाया गया और बाद में छावनी में नजरबंद कर दिया गया। अगले दिन, मुख्यमंत्री क्रोधित हो गए और उन्होंने अपने बेटे को भारतीय सेना की कैद से छुड़ाने की कोशिश की।

पता है उसके बाद क्या हुआ?

उनके वाहन को वीआईपी वाहन के रूप में छावनी में जाने की अनुमति नहीं दी गई, उन्हें कर्नल से मिलने के लिए पूरे रास्ते पैदल चलने के लिए मजबूर किया गया। जिसके पश्चात क्रोधित मुख्यमंत्री कैरों ने पूरे मामले की शिकायत प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से की।

वो दिन और थे, लोकतंत्र अभी नवजात अवस्था में था, शक्तिशाली होते हुए भी नेताओं में कुछ संकोच और नैतिकता बाकी थी।

हैरान, तथाकथित भारत रत्न प्रधान मंत्री नेहरू ने अपने विश्वासपात्र प्रताप सिंह कैरों से सवाल करने के बजाय, अपने अधिकारियों के आचरण के लिए सेना प्रमुख जनरल थिमय्या से स्पष्टीकरण मांगा।

पता है सेना प्रमुख द्वारा क्या उत्तर दिया गया?

जवाब में सेना प्रमुख द्वारा कहा गया कि, "यदि हम अपनी महिलाओं के सम्मान की रक्षा नहीं कर सकते, तो आप हमसे अपने देश के सम्मान की रक्षा की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?"

उनका ये जवाब सुनकर प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू भी अवाक रह गये थे। यह उसी बहादुर सैनिक की कहानी थी जिसने प्रधानमंत्री को भी चुनौती दे दी थी।

यह लेख "भारतीय सैनिक को सलाम" पत्रिका में मेजर जनरल ध्रुव सी कटोच द्वारा योगदान दिया गया था।
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url