Header Ads

'सत्यमेव जयते' वाले आमिर खान अपनी बेटी को न्याय क्यों नही दिला रहे?

आमिर खान की 23 वर्षीय (जन्म-1997) बेटी इरा खान ने इंस्टाग्राम पर एक 9 मिनट 23 सेकंड का वीडियो पोस्ट शेयर किया, जिसमें वह कह रही है कि जब वह 14 साल की थी तब घर में ही उनका कई बार यौन शोषण हुआ और ये एक वर्ष तक चला। जिसकी वजह से वह काफी वर्षों तक डिप्रेशन में रही। चार वर्षों तक Clinical Depression में।

आमिर खान की बेटी इरा खान ने यह खुलासा नहीं किया कि किसने उनका यौन शोषण किया था। लेकिन सोचने वाली बात है कि आमिर खान जैसे टॉप के कलाकार के घर में कोई "ऐरा गैरा नत्थू खैरा" तो घुस नहीं सकता और एक वर्ष तक तो घर पर कोई करीबी ही आना-जाना कर सकता है। मतलब जरूर किसी नजदीकी रिश्तेदार ने ही उनका यौन शोषण किया होगा, जिसको आमिर खान अच्छे से जानते होंगे। 
सबसे बड़ी बात है कि इरा खान ने कहा कि इस बात की जानकारी उसने उस समय ईमेल के जरिए अपने माता-पिता (आमिर खान और रीना दत्त) को भी दी थी! फिर भी आमिर खान चुप रहे क्योंकि वो 2011-2012 का वर्ष था। 

आमिर खान क्यों चुप रहे? विस्तार से जानिए:- 

उस समय आमिर खान बना रहे थे 'सत्यमेव जयते' जिसके लिए उन्हें 30 मिलियन (3 करोड़ रुपये) मिला था। सत्यमेव जयते सामाजिक कुरूतियों (दहेज, दुराचार, शराब, भ्रस्टाचार आदि) के खिलाफ एक टीवी सीरीज थी। उधर शूटिंग और एपिसोड के दौरान ही कोई रिश्तेदार आमिर की बेटी इरा खान का यौन शोषण घर पर ही एक वर्ष तक करता रहा था। 

मतलब शो का प्रथम प्रसारण 6 मई 2012 को हुआ था उस समय तक खान के घर में यह कुकर्म जारी था। फिर उस वक्त TIME मैगज़ीन के कवर पेज के लिए भी फोटोशूट करवाया था। अगर विवाद होता तो सत्यमेव जयते शो प्रभावित होता। शो बंद भी हो सकता था, क्योंकि मामला 3 करोड़ का था। TIME Cover Page का ग्लेमर भी नही मिलता!

आमिर खान चुप रहे क्योंकि उस वक्त 2011-12 में केंद्र में मनमोहन सिंह की कांग्रेसी सरकार थी और सरकार के विरोध में अंतरराष्ट्रीय संदेश अच्छा नही जाता!

लेकिन 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार आने के बाद नवंबर 2015 में आमिर खान ने बयान दिया कि पत्नी किरण राव (दूसरी पत्नी) को भारत में डर लग रहा है। क्योंकि देश में असहिष्णुता (इन्टॉलरेंस) बहुत बढ़ गया है। और इसी बयान के बाद सेकुलर गिरोह का अवॉर्ड वापसी का ढोंग शुरू हुआ था।

मतलब घर में घटना घटी कांग्रेस सरकार में और सौतेली माँ को डर लगा भाजपा सरकार में, यह टॉलरेंस ही तो है।

यदि आमिर खान उस वक्त आवाज उठाते तो उनके घर के किसी सदस्य को जेल जाना पड़ता, जो उनके और उनके खानदान के स्टारडम को हमेशा के लिए खत्म कर देता और उनका मुस्लिम धर्म भी बदनाम होता।

खैर जो हुआ सो हुआ अब जब बात घर से बाहर निकल ही गई है तो अब आमिर खान को अपनी बेटी के न्याय के लिए FIR दर्ज अवश्य करवाना चाहिए। पूरा देश जानना चाहता है आपके "घर के भेदिये" का नाम!

🚩सत्यमेव जयते🚩

No comments:

Powered by Blogger.