Header Ads

Bollywood को नंगा करने वाले अर्नब गोस्वामी का साथ कौन देगा?

70 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब पूरा बॉलीवुड एकजुट होकर सामने आया है। पूरे बॉलीवुड की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में 2 मीडिया चैनलों के खिलाफ शिकायत डाली गई। शिकायत डालने वालों में ना सिर्फ खान गैंग शामिल था, बल्कि उनके साथ अजय देवगन, अक्षय कुमार जैसे तथाकथित राष्ट्रवादी हीरो भी हैं और वो 2 मीडिया चैनल हैं Republic और TimesNow. शिकायत ये है कि ये दोनों चैनल बॉलीवुड की छवि को खराब कर रहे हैं।

बॉलीवुड क्यों एकजुट हुए? सांप और नेवलों को एक ही मंच पर क्यों आना पड़ा? जो एक दूसरे की शक्ल से भी नफरत करते हैं, वो एकजुट क्यों हुए? वजह है डर, खौफ। जो हाल सड़क2 का हुआ, जो हाल KBC का हुआ, जो हाल टीपू सुल्तान का हुआ, जो हाल BigBoss का हुआ। वो किसी के साथ भी हो सकता है। किसी की भी फ़िल्म के साथ हो सकता है। क्योंकि जनता के सामने हर रोज़ बॉलीवुड की एक नई गन्दगी का खुलासा हो रहा है और जनता अब किसी को भी माफ करने के मूड में नहीं है। चाहे वो सदी के महानायक हों, चाहे किंग खान हो, चाहे भाईजान हों, चाहे खिलाड़ी कुमार हों, पब्लिक की नज़र में अब पूरा बॉलीवुड नंगा हो चुका है और इनको नंगा किसने किया? अर्नबगोस्वामी ने...नतीजा वो सबके राडार पर आ गया..सबने उसको टारगेट बना लिया है।

हमाम में सब नंगे हैं, पूरा बॉलीवुड एक ही है। ये कभी एक दूसरे के खिलाफ नहीं हो सकते। भले ही आपस मे कितनी भी दुश्मनी हो, जब ड्रग्स का मामला उठा तो किसी भी बड़े स्टार ने एक शब्द नहीं बोला। जिनसे हमें सबसे ज्यादा उम्मीद थी, जो बड़े वाले देशभक्त बने फिरते थे, उनके मुंह से भी एक आवाज़ नहीं निकली।

एक लड़की कंगना अकेली लड़ती रही...उसका घर तोड़ दिया गया...उसकी जिंदगी भर की कमाई पर बुलडोजर चला दिया गया...किसी के मुंह से एक शब्द नहीं निकला...जब सारा कच्चा चिट्ठा खुल चुका...तब अपनी इमेज बचाने के लिए अक्षय ने एक वीडियो डाला..."दिल पर हाथ रख के कैसे कह दूं कि बॉलीवुड में ड्रग्स नहीं लिया जाता" तो मत कह ना...जैसे इतने दिनों से मुंह मे दही जमा रखी थी...जमी रहने दे...तेरे कहने से पहले हमें सब पता चल गया...अब जरूरत क्या है कुछ कहने की?

कभी ठंढे दिमाग से सोचिएगा...बॉलीवुड क्या है? नाना पाटेकर के पास कुछ नहीं है...कादर खान मुफ़लिसी में चल बसे...असरानी के पास कुछ नहीं है...मिथुन चक्रवर्ती के पास कुछ नहीं है...गोविंदा के पास कुछ नहीं है...ऐसे कई बड़े बड़े कलाकार जिन्हें हम उनकी एक्टिंग की वजह से जानते-मानते हैं। जो अपने जमाने के सुपरस्टार रहे...गुम हो गए...कहां गए...किसी को नही पता। सनी देओल के पास काम नहीं है...मगर अनिल कपूर की हर दूसरे महीने फ़िल्म आती है। भई उसकी फोटो है दाऊद के साथ...कैसे नहीं मिलेगी फ़िल्म।

चंद मुट्ठी भर लोगों ने...जिसे आप दाऊद गैंग कहें...या खान गैंग कहें...पूरे बॉलीवुड पर कब्ज़ा कर लिया है...ये जिसको चाहेंगे...उसी को काम मिलेगा...इनकी शर्तों पर। भूल जाइए की इनमे से कोई राष्ट्रवादी है...या देशभक्त है। ऐसा इंसान बॉलीवुड में कभी टिक ही नहीं सकता। ये सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं...ये वो लोग हैं...जो खुद Canada के नागरिक हैं...और हमे देशभक्ति बेचकर अपनी जेब गर्म करते हैं।

कहने को ये शिकायत दो चैनलों के खिलाफ है...मगर हर कोई जानता है कि बॉलीवुड में ये खलबली एक इकलौते इंसान ने मचा दी है...जिसका नाम है अर्नब गोस्वामी...आप लोगों को याद होगा कि अर्नब Times Now का ही प्रोडक्ट है...बाद में इसने अपना चैनल खोला।

ऐसे वक्त में...जब पूरा बॉलीवुड एक राष्ट्रवादी पत्रकार के खिलाफ एकजुट हुए है...जितने भी पत्रकार हैं...जो खुद को राष्ट्रवादी कहते हैं...उन्हें एकजुट हो जाना चाहिए। मगर यहां एक दिक्कत है...इन पत्रकारों को भी अर्नब से दिक्कत है...क्योंकि बाकि सारे पत्रकार अपने-अपने मीडिया चैनल के लिए काम करते है और उनमें से कई मीडिया चैनल बॉलीवुड से सीधे जुड़े हैं। कुछ दाऊद गैंग से जुड़े हुए हैं। 

अर्नब इकलौता ऐसा पत्रकार है...जिसने अपनी नौकरी छोड़ दी मगर सच को नहीं छोड़ा...और आज वो अपने दम पर देश के सबसे बड़े मीडिया चैनल का मालिक है...इस बात की जलन दूसरे पत्रकारों को होना स्वाभाविक है...और ये भी स्वाभाविक है कि इस जलन..इस कंपीटिशन की वजह से वो उसका साथ नहीं देंगे...तो कौन साथ देगा उसका? हम और आप ही बचे।

अर्नब गोस्वामी ने सबको नंगा कर दिया...पूरा सच खोल के हमारे सामने रख दिया...अब ये हमारे ऊपर है कि हम सच को स्वीकार करें...या गांधीजी के बन्दर की तरह आंखों पर पट्टी बंधे रखें...मगर याद रखिएगा...आपकी इस पट्टी का फायदा उठाकर...सनी लियोनि जैसी पोर्नस्टार को आपके घर तक पहुंचा दिया गया...उसे आपके बच्चों का रोल मॉडल बना दिया गया।

यदि आप सच का साथ देने की हिम्मत रखते हैं तो खड़े हों अर्नब गोस्वामी के साथ। वरना भीड़ तो हमेशा झूठ के साथ ही होती है। सच का साथ देने का हौसला हर किसी में कहाँ होता है। यदि सच को जिंदा रखना चाहते हैं तो अर्नब गोस्वामी को अवश्य सपोर्ट करें।

#IStandWithArnabGoswami

No comments:

Powered by Blogger.