Header Ads

क़यामत ढा सकता है अंतरिक्ष से आ रहा विशाल उल्कापिंड (Asteroid), NASA ने जारी किया अलर्ट

2020 की शुरुआत से ही पूरी दुनिया तरह तरह की आपदाओं और महामारियों से जूझ रही है। एक तरफ जहां कोरोना का संकट खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है, वहीँ आए दिन अंतरिक्ष से मौत की खबरें समाने आ रही है। इस साल की शुरुआत जहां ऑस्ट्रेलिया के जंगल में लगी भीषण आग से हुई, उसके बाद तो कोरोना ने तबाही ही मचा दी। फिर आई 29 अप्रैल को उल्कापिंड (Asteroid) टकराने से दुनिया खत्म होने की बात। कई लोगों ने इसे महज अफवाह लिया तो कई लोगों को यकीन हो गया कि मौजूद हालात ऐसे हैं कि पृथ्वी सच में खत्म हो जाएगी। हालांकि, ऐसा नहीं हुआ। 


लेकिन अब नासा ने जानकारी दी है कि पृथ्वी की तरफ बेहद बड़ा उल्कापिंड (Asteroid) तेजी से आ रहा है। वैज्ञानिकों का दावा है कि इस उल्कापिंड का साइज 180 फ़ीट से 393 फीट तक हो सकता है। अगर ये पृथ्वी से टकराया तो क़यामत आ जाएगी।

नासा ने दावा किया है कि कभी भी बेहद बड़ा उल्कापिंड (Asteroid) पृथ्वी से टकरा सकता है। ये उल्कापिंड बेहद बड़ा है। अगर इसकी टक्कर होती है तो कयामत आ जाएगी। 


नासा सेंटर के मुताबिक, ये उल्कापिंड (Asteroid) पृथ्वी के लिए संभावित खतरा है। ये पृथ्वी के बेहद पास से गुजरने वाला है। लेकिन अगर पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण ने इसे अपनी तरफ खींच लिया तो तबाही आ जाएगी। 

इसे नासा के वैज्ञानिकों ने अपोलो एस्टेरॉयड (Apollo Asteroid) नाम दिया है। ये पृथ्वी के ऑर्बिट में ही चक्कर लगाता है। 


कैलकुलेशन के मुताबिक ये उल्कापिंड (Asteroid) पृथ्वी से  0.02035 astronomical units (AU) यानी 1,891,650 मील दूर से गुजरेगा। लेकिन अगर पृथ्वी ने इसे खींचा तो टक्कर निश्चित है।  

आपको बता दें कि अभी हमारे गृह को अंतरिक्ष में घूम रहे दो हजार उल्कापिंड (Asteroids) से खतरा है। इन सभी उल्कापिंडों पर वैज्ञानिकों ने नजर रखी हुई है। 


नासा के मुताबिक, इस साल कई NEO यानी नियर अर्थ ऑब्जेक्ट (Near Earth Object) पृथ्वी के आसपास हैं।  इससे पहले कभी भी पृथ्वी को एक साथ इतने उल्कापिंडों (Asteroids) से कोई खतरा नहीं रहा था। 

आपको बता दें कि आखिरी बार जब पृथ्वी पर विशालकाय उल्कापिंड (Asteroids) गिरा था, तब पृथ्वी से डायनासोर खत्म हो गए थे। ये आज से 66 मिलियन साल पहले की बात है। लेकिन अब जो 2020 में अंतरिक्ष की स्थिति है वो फिर से ऐसीे ही किसी आपदा की ओर इशारा कर रही है।  


No comments:

Powered by Blogger.