Header Ads

क्या हिंदुस्तान में हिन्दू ही अल्पसंख्यक हो जायेंगे? ये आंकड़े आपको हैरान कर देंगे

सउदी अरब के प्रोफेसर नासिर बिन सुलेमान उल उमर का कहना है कि - "भारत स्वयं टूट रहा है। यहाँ इस्लाम तेज गति से बढ़ रहा है और हजारों मुसलमान, पुलिस, सेना और राज्य शासन व्यवस्था में घुस चुके हैं और भारत में इस्लाम सबसे बड़ा दूसरा धर्म है। आज भारत भी विध्वंस के कगार पर है। जिस प्रकार किसी राष्ट्र को बनने में कई दशक लगते हैं, उसी प्रकार उसके खत्म होने में भी लगते हैं। भारत एकदम रातों-रात समाप्त नहीं होगा, इसे धीरे-धीरे समाप्त किया जाएगा और निश्चय ही भारत एकदिन नष्ट कर दिया जाएगा।"

प्रोफेसर नासिर बिन सुलेमान उल उमर का दावा है कि भारत के हिन्दुओं की स्थिति जल्द ही इराक के यजीदियों की भाँति हो जाएगी। उनके अनुसार भारत में लगभग 42,000 बच्चें प्रतिदिन जन्म ले रहे हैं, इनमें से लगभग 21,000 मुस्लिम बच्चें हैं, जबकि हिन्दूओं के बच्चों की संख्या लगभग 20,000 है तथा अन्य 1000 हैं।

यानि कुल आबादी के लगभग 20% मुसलमानों ने 80% हिन्दुओं को बच्चों की जन्म दर में पछाड़ दिया। यानि कि अब जो बच्चे जन्म ले रहे हैं, उनमें मुस्लिम बहुसंख्यक और हिन्दू अल्पसंख्यक हैं। इस हिसाब से 2050 तक भारत में मुस्लिम बहुसंख्यक हो जायेंगे।

सुलेमान कहते हैं कि आज मुसलमानों की आबादी सरकारी आकड़ों के हिसाब से लगभग 18% के आसपास है, लेकिन असल में ये 25% की संख्या को पार कर चुके हैं।

प्रोफेसर नासिर बिन सुलेमान उल उमर बताते हैं कि सरकारी आंकड़े सटीक नहीं हैं क्योंकि वहाबी मुस्लिम, जनसंख्या गिनती के समय जानबूझकर अपनी असल संख्या को छुपा लेते हैं व दर्ज नहीं कराते। ताकि उनकी जनसंख्या का उनका हथियार छुपा रहे, ताकि काफिर जागरूक न होने पाए।

उनके अनुसार भारत में असली सेकुलरिज्म भी तभी तक है, जब तक की हिन्दू बहुसंख्यक है और हिन्दूओं के अल्पसंख्यक होने पर परिणाम क्या होगा ये हम पाकिस्तान व बांग्लादेश के लुप्तप्राय काफिरों के आकड़ों से अच्छी तरह समझ सकते हैं।

प्रोफेसर नासिर बिन सुलेमान उल उमर कहते हैं कि पाकिस्तान व बांग्लादेश को छोड़िये, वर्तमान कश्मीर से ही सीख ले लीजिये। अन्य राज्य केरल, बंगाल, उत्तर प्रदेश के मुस्लिम बहुल इलाकों का अवलोकन करें, जहां मुस्लिम क्षेत्रों से लगी हिन्दू बस्तियों से काफिरों का लगातार पलायन हो रहा है।

इसके अलावा जाम्बिया व मलेशिया आदि देशों के भी उदाहरण मौजूद हैं। वहाँ जैसे ही मुसलमान बहुसंख्यक हुए ये सेक्युलर देश इस्लामिक देश घोषित कर दिए गए।

इस प्रकार यदि सऊदी अरब के प्रोफेसर नासिर बिन सुलेमान उल उमर के सभी दावों को सच मानें तो 2050 तक हिंदुस्तान में मुस्लिम बहुसंख्यक तथा हिन्दू अल्पसंख्यक हो जायेंगे।

1 comment:

Powered by Blogger.